मेरे ब्लॉग अपने मेल पे पाने के लिए क्लिक करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

HINDI WRITING SOFTWARE

FOR ONLINE DEGREE SERACH

Begin a new career with a degree from an online university or online college.
आवश्यक सूचना !



सभी रचनाये myfreecopyright.com के अंतर्गत सर्वाधिकार ब्लॉग ओनर के पास सुरक्षित है और ब्लॉग लेखक की लिखित अनुमति के बगैर इसका उपयोग करना सर्वथा गैरकानूनी है!



Tuesday, October 18, 2011

"रावण छोटा था "

रावण छोटा था

इस बार हम हमेशा क़ी तरह दशहरे का मेला देखने गए | और बार क़ी तरह इस बार रावण देखने में कई भिन्नताए थी , मेरे लिए इस बार का अवसर और भी ख़ास इसलिए थे क्योंकि मै १५ वर्षो के बाद भिलाई का रावण देख रहा था | मन में अनेको उमंगें थी , उत्साह था, उमर के इस मोड़ पे बचपन बहुत दूर जा चुका था मगर अपनी इस जमी पे आज भी आँखों के आगे दिखाई दे जाता| इन दिनों बचपन में सुबह से ही हमारा उत्साह देखते ही बनता था , शाम होते होते दिल क़ी धड़कने उत्साह से बढ जाती थी , शाम को जल्दी ही हम सब दोस्त खेल कर निपट जाते और ६ बजने तक तैयार होकर पिताजी का इन्तजार करने lagte | बचपन में अपने पिता के साथ सिविक सेण्टर का रावण का मेला, लम्बी चलने वाले आतिशबाजी और विशाल जनसमूह | हम दोनों भाई बहन पिताजी क़ी दुपहिया की सीट पे खड़े हो कर घंटो तक चलने वाले इस कार्यक्रम को देखा करते | अंत में जब रावण का पुतला जलता तो बड़ा आनंद आता , खासतौर पर मुझे रावण का सर पटाखे से फूटते देखने में अति आनंद आता था | अब ना पिताजी रहे और ना वो बचपन , हा मगर आज उस बचपन क़ी कड़ी जो पिछले १५ सालो से टूट गयी थी आज फिर जुड़ गयी , मुझे इस बात क़ी बड़ी खुशी थी और मै आज भी अपने उस खोये बचपन के साथ उस आतिशबाजी को किसी और जगह पे निहार रहा था |

मगर सच कहू तो इस रावण को देख के लगा ही नहीं क़ी इसमें रावण वाले वो बात है | झुकी हुई तलवार , पिचका हुआ पेट , ऊँचाई भी बहुत कम | बस टाई क़ी कमी थी वरना ये रावण किसी साक्षात्कार देने वाले प्रतियोगी की तरह ही लगता | राक्षसों वाला आवेश और रौब इस रावण में लगा ही नहीं | बड़ा विचार विमर्श किया , लोगो ने भी बड़ा मजाक उड़ाया , आतिशबाजी क़ी तारीफ तो की मगर सबने कहा "साली महंगाई ने रावण को भी नहीं छोड़ा " सचमुच सरकारी उलट पुलट और वर्तमान के नेताओ क़ी काली करतूतों को देख रावण भी लज्जित हो उठा | भ्रष्टाचार को ख़तम करने जानता ने मुहीम चलायी तो सरका ने महंगाई और बढ़ा दी | ईंट धोने वाले रामू और पानी भरने वाली कमली से लेकर स्कूल जाने वाले विनय और कॉलेज जाने वाले बच्चो तो काम काजी लोगो सभी को साथ में लपेट लिया | धंधे वालो ने भी अपना नुक्सान ना करने क़ी खातिर मिलावट करनी शुरू कर दी | पहले ४० % भ्रष्टाचारी स्वेच्छा से थे अब बचे ६०% मजबूरी में बन जायेंगे | जो बोले उसका गला काट क़ी नीती ने रावण का सारा व्यक्तित्व उनमे भर दिया | अब जब क़ी इतना सब हो ही चुका था , सिवाय सहने के और कुछ दबने के इस वक़्त क्या कर सकते थे | एक परम्परा थी बुराई पे अच्छाई क़ी विजय क़ी , जो हम मना रहे थे | मगर बुराई के ही प्रतीक चिन्ह जैसे लोग रावण को मात देते हुए जला रहे थे | आज रावण से भी ऊंचा कद उनका हो चला था , जो जन प्रतिनिधि कहलाते है | सारा तमाशा देखकर हम भी चल पड़े , मगर जब लोगो ने पुछा क्यों जी मजा आया ? सो हम क्या कहते सिवाय इसके क़ी हां ... मजा तो आया मगर "रावण छोटा था "